National

मुंबई:मोदी ने 3 मेट्रो लाइन की रखी आधारशिला,दिया 100 दिन का ब्योरा…

Written by newsbreaklive

पीएम मोदी ने आज मुंबई में मेट्रो की आधारशिला रखी, साथ ही मेक इन इंडिया के तहत बने मेट्रो कोच का उद्घाटन किया. प्रधानमंत्री ने मुंबई में 19 हजार करोड़ की तीन मेट्रो लाइन की आधारशिला रखी.

लोगों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा, “ मुंबई और महाराष्ट्र के लोगों की सादगी और स्नेह मुझे हमेशा अभिभूत कर देता है. चुनाव प्रचार के दौरान महाराष्ट्र के अनेक शहरों में मैंने लोगों से संवाद किया. उस दौरान मुंबई में जो रात में सभा हुई थी उसकी चर्चा कई दिनों तक हुई. इस स्नेह के लिए मैं आपका आभारी हूं.”

मुंबई ने देश को गति दी है

पीएम मोदी ने मुंबई के लोगों की तारीफ करते हुए कहा, “नई मेट्रो लाइन हो, मेट्रो भवन हो ये सभी परियोजनाएं मुंबई के इंफ्रास्ट्रक्टर को नए आयाम तो देगी ही साथ ही मुंबई में रहने वाले लोगों के जीवन को भी आसान बनाने का काम करेगी. मुंबई वह शहर है जिसकी गति ने देश को भी गति दी है. यहां के परिश्रमी लोग, यहां के प्रफेशनल्स, यहां की माताएं-बहनें, सभी लोग मुंबई से प्यार करते हैं, गर्व करते हैं.

उन्होंने कहा कि बीते पांच वर्षों में ‘आमची मुंबई’ के इंफ्रास्ट्रक्चर को सुधारने के लिए हमने बहुत ईमानदारी से प्रयास किया है. बांद्रा-कुर्ला को एक्सप्रेस हाईवे से जोड़ने वाला प्रोजेक्ट तो लाखों प्रोफेशनल्स के लिए बहुत बड़ी राहत लेकर आएगा.

चंद्रयान पर बोले पीएम- चांद पर पहुंचने का सपना पूरा होकर रहेगा

बता दें कि मिशन चंद्रयान-2 के लैंडर ‘विक्रम’ का चांद की सतह पर उतरने से पहले इसरो से संपर्क टूट गया. चांद पर पहुंचने से हम कुछ पल दूर रह गए. इसी का जिक्र करते हुए पीएम मोदी ने कहा,

अपने लक्ष्य के लिए कैसे दिन-रात एक दिन कर दिया जाता है. कैसे विपरीत परिस्थिति में भी पूरी तन्मयता के साथ अपने लक्ष्य को प्राप्त किया जाता है यह इसरो के वैज्ञानिकों से हम सब सीख सकते हैं. किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रयास करने वाले 3 तरह के लोग होते हैं. सबसे निचले स्तर पर वे होते हैं जो रुकावटों के डर से कभी काम की शुरुआत नहीं करते. मध्य स्तर पर कुछ लोग ऐसे होते हैं जो काम तो शुरू कर देते हैं, पर रुकावट आते ही भाग जाते हैं. सबसे ऊंचे स्तर पर वे लोग पहुंचते हैं, जो लगातार रुकावट के बावजूद निरंतर प्रयास करते हैं और अपने लक्ष्य को प्राप्त करके ही दम लेते हैं.

“हम तब तक नहीं रुकेंगे, जब तक मंजिल पर नहीं पहुंच जाते”

पीएम ने कहा, “एक रुकावट आज हमने देखी है, लेकिन इसरो के वैज्ञानिक तब तक नहीं रुकेंगे, जब तक मंजिल तक नहीं पहुंच जाते. चांद पर पहुंचने का सपना पूरा होकर रहेगा. हम सबको ये नहीं भूलना चाहिए कि चंद्रयान के साथ भेजा गया ऑर्बिटर, अभी वहीं हैं. वह लगातार चंद्रमा की परिक्रमा कर रहा है. ये भी एक ऐतिहासिक उपलब्धि है.”

About the author

newsbreaklive

Leave a Comment

14 − seven =