Local Public Affair

आप के दो प्रत्याशियों के ख़िलाफ़ संपत्ति विरूपण अधिनियम के तहत एफ़आईआर दर्ज, बढ़ सकती हैं पार्टी के लिए मुश्किलें…

Written by newsbreaklive

छत्तीसगढ़ में आचार संहिता लगने के बाद से पुलिस की भूमिका काफी बढ़ गई है और इसी के चलते आचार संहिता का उल्लंघन करने वालों पर गाज गिरने की काफी सम्भावना है। विधानसभा चुनाव से पहले ही छत्तीसगढ़ में आम आदमी पार्टी के दो प्रत्याशी के खिलाफ सिविल लाइन थाने में एफआईआर दर्ज कर पुलिस विभाग ने इसकी शुरुआत कर दी है। रायपुर उत्तर विधानसभा में सरकारी संपत्ति पर बैनर-पोस्टर लगाने वाले आप के उम्मीदवार योगेंद्र सेन और मुन्ना बिसेन पर आचार संहिता उल्लंघन का आरोप लगाते हुए एफ़आईआर दर्ज की गई है। यह एफआईआर रायपुर नगर निगम ने संपत्ति विरूपण अधिनियम के तहत दर्ज करवाई है। गौरतलब है कि आचार संहिता लगने के बाद किसी भी उम्मीदवार पर पुलिस की ये पहली कार्यवाई है।

आपको बता दें , दोनों प्रत्याशियों ने शहर की विभिन्न दीवारों और यहाँ तक कि स्काई वाक के पिलर पर भी हजारों पोस्टर लगवा दिए थे जबकि सभी राजनैतिक पार्टी को आयोग ने निर्देश दिया है कि सरकारी संपत्ति का उपयोग कोई भी प्रचार के लिए नहीं करेंगे। अगर ऐसा करते है तो आचार संहिता का उल्लंघन माना जाएगा। इसके बावजूद आप के उत्तर विधानसभा के उम्मीदवार योगेंद्र सेन और रायपुर दक्षिण प्रत्याशी मुन्ना बिसेन ने बिजली खंभों पर पोस्टर लगाए है। पुलिस ने इन दोनों प्रत्य़ाशियों पर बैनर -पोस्टर लगाकर सरकारी और निजी संपत्ति खराब करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने इसकी रिपोर्ट चुनाव आयोग को भी भेज दी है। उनका बैनर-पोस्टर भी जब्त कर लिया गया है। इसके चलते आम आदमी पार्टी के इन उम्मीदवारों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं।

About the author

newsbreaklive

Leave a Comment

16 + 1 =